उन आँखों की आस देख,

उस चहेरे ने मुझे सम्मोहित किया,

      अपने कोमल पैरों पर खड़ा हो ,

   माँ का हाथ पकड़, मैं चल दिया ।

                                                                 आज उस चेहरे पर शिकन थी,

                                             गुस्सैल आँखों से मुझे चलने का इशारा किया,

                                                  न जाने क्या क्या ऊगली होगी मेरी टीचर ,

                                              घबराते हुए , माँ का हाथ पकड़, मैं चल दिया ।

        आज उस चेहरे पर मुस्कान थी,

मैंने पहली कमाई का चेक उन्हें दिया,

       आज हम खाना बाहर ही खाएंगे ,

        माँ का हाथ पकड़, मैं चल दिया।

                                      झुर्रियों से भरा वो चेहरा , आज भी उतना ही सुन्दर था,

                                                   डॉक्टर ने रिपोर्ट देख, उन्हें कैंसर बता दिया ,

                                                        पागल है यह डॉक्टर माँ , कहीं और चले,

                                                                  माँ का हाथ पकड़, मैं चल दिया।

               कुछ महीने बाद, वह हाथ मेरे,

                  समक्ष निर्जीव हो, गिर गया ,

    पचास वर्षीय अनाथ को विलपता देख,

         मेरी बेटी ने मेरा  हाथ पकड़ लिया ।

Pin It on Pinterest

Share This