वैसे ही गर्मी से थके है ,

इस भीड़ में, ये ठेला कहाँ भगाएं ,

    ना तुम हमें हॉर्न मार सताओ ,

     चलो भैय्या तुम आगे जाओ।

                                                      अपनी कार की ठण्डी हवा का आनंद लिए,

                                                            तुम रेडियो के बजते गाने गुनगुनाओ ,

                                                     आखिर क्यों रुकोगे किसी के लिए भी तुम ,

                                                                          चलो भैय्या तुम आगे जाओ।

दिन भर चल चल , टमाटर बेच,

     आज मैंने दो पैसे कमाए है ,

    तुम बैठे बैठे लाखों कमाओ ,

  चलो भैय्या तुम आगे जाओ।

                                                 देर सवेर में तो घर पहुँच ही जाऊंगा ,

                                            रूखी सूखी खा, नींद का लुफ्त उठाऊंगा ,

                                                तुम जाकर अपने लिए जाम बनाओ ,

                                                           चलो भैय्या तुम आगे जाओ।

Pin It on Pinterest

Share This