एक मजदूर की लड़की से ,

मालिक की लड़की ने पूछा  ,

कोई द्वेष नहीं था मन में  ,

बचपन की मासूमियत से उसने पूछा ।

                                    क्यों तू सुबह से श्याम ,

                                        मिटटी में है खेलती ,

                              यह फटे पुराने कपडे छोड़ ,

                क्यों तुम अच्छे कपडे नहीं पहनती ।

     देख मेरी यह लाल जूती ,

मेरी लाल ड्रेस से है मिलती ,

इन लाल कंगनों को पहन ,

देख में हूँ कितनी खिलती।

                               रोते हुए मजदूर की लड़की ,

                               अपनी माँ के पास जाती है ,

                      सिसकती हुई बेटी की व्यथा सुन ,

                माँ उसे रस्ते का एक गड्ढ़ा दिखती है।

 

              माँ, बेटी के आँसूं पोछ , उस्को यह बतलाती है,

             जिनं गड्ढों पर हमारी गाडी झूलती रह जाती है,

                   उन् गड्ढो का तो उन्हें पता ही नहीं चलता ,

चुप होजा बेटी , किस्मत पर किसिका जोर नहीं चलता।

Pin It on Pinterest

Share This