सुबह सुबह  मेरा फ़ोन बजा , मैसेज आया ,

डिअर सर , इस महीने की EMI है बकाया ,

   इस माया के जाल को कैसे मैं  सुलझाऊँ ,

                        क्यूँ ना मैं साधु बन जाऊं ।

                  साल भर, रगड़ रगड़ मैंने क्या पाया ,

                     इस बार भी 5 % इंक्रीमेंट ही आया ,

               इस महत्वकांशा की आग को कैसे में बुझाऊँ ,

                                   क्यूँ ना मैं साधु बन जाऊं ।

              सुबह सुबह उठ, मैं gym को जाऊँ ,

दिन भर सोचुँ क्या खाऊं, क्या न खाऊं ,

क्यों न ये दुविधाएं छोड़, मैं चिलम उठाऊँ ,

भोले का नाम लूं और साधु बन जाऊं ।

 

              मेरी माँ के इस दुनिया से जाने का दुख ,

          मेरे बच्चे का इस दुनिया में आने का सुख ,

                          इस बंधन को कैसे में तोड़ पाऊँ ,

                    साधु बनने की ताकत कहाँ से लाऊँ।

                                         कैसे मैं साधु बन पाऊँ,

                                         कैसे मैं साधु बन पाऊँ।

Pin It on Pinterest

Share This